योग क्या है, लाभ, नियम, प्रकार और योगासन - Yoga and List of Yogasana in Hindi

 योग विस्मरण में दफन एक प्राचीन मिथक नहीं है। यह वर्तमान की सबसे बहुमूल्य विरासत है। यह आज की आवश्यकता है और कल की संस्कृति है - स्वामी सत्यानंद सरस्वती

Table of contents (TOC)

    योग क्या है? - What is Yoga in Hindi?

    योग अच्छी तरह से जीने का विज्ञान है और इसलिए इसे दैनिक जीवन में शामिल किया जाना चाहिए। यह हमारे जीवन से जुड़े सभी पहलुओं - शारीरिक, मानसिक, भावनात्मक, आध्यात्मिक और आध्यात्मिक आदि पर काम करता है। योग का अर्थ है जोड़ना या बांधना। इस शब्द का मूल संस्कृत शब्द युज है, जिसका अर्थ जुड़ना होता है। आध्यात्मिक स्तर पर इस मिलन का अर्थ है व्यक्तिगत चेतना का सार्वभौमिक चेतना के साथ मिलन। व्यावहारिक स्तर पर, योग शरीर, मन और भावनाओं को संतुलित और सामंजस्य स्थापित करने का एक साधन है। यह योग या एकता आसन, प्राणायाम, मुद्रा, बंध, षट्कर्म और ध्यान के अभ्यास से प्राप्त होती है। तो योग भी जीने का एक तरीका है और अपने आप में अंतिम उद्देश्य भी है।

    योग सबसे पहले भौतिक शरीर को लाभ पहुंचाता है, जो कि अधिकांश लोगों के लिए एक व्यावहारिक और परिचित प्रारंभिक बिंदु है। जब इस स्तर पर असंतुलन का अनुभव होता है, तो अंग, मांसपेशियां और तंत्रिकाएं सद्भाव में काम नहीं करती हैं, लेकिन वे एक दूसरे के विपरीत काम करती हैं।

    योग शारीरिक शरीर के बाद मानसिक और भावनात्मक स्तरों पर काम करता है। बहुत से लोग तनाव और रोजमर्रा की जिंदगी की बातचीत के परिणामस्वरूप कई मानसिक समस्याओं से पीड़ित होते हैं। योग तत्काल उपचार प्रदान नहीं कर सकता है, लेकिन यह उनका मुकाबला करने का एक सिद्ध तरीका है।

    पिछली शताब्दी में, हठ योग (जो सिर्फ एक प्रकार का योग है) बहुत लोकप्रिय और लोकप्रिय हुआ। लेकिन योग के सही अर्थ और संपूर्ण ज्ञान के बारे में जागरूकता अब लगातार बढ़ रही है।

    योग के लाभ - Benefits of Yoga in Hindi

    शारीरिक और मानसिक उपचार योग के सबसे ज्ञात लाभों में से एक है। यह इतना शक्तिशाली और प्रभावी है क्योंकि यह सद्भाव और एकीकरण के सिद्धांतों पर काम करता है।

    योग अस्थमा, मधुमेह, रक्तचाप, गठिया, पाचन विकार और अन्य बीमारियों में चिकित्सा का एक सफल विकल्प है, खासकर जहां आधुनिक विज्ञान आज तक उपचार प्रदान करने में सफल नहीं हुआ है। एचआईवी पर योग के प्रभावों पर अनुसंधान वर्तमान में आशाजनक परिणामों के साथ चल रहा है। चिकित्सा वैज्ञानिकों के अनुसार, तंत्रिका और अंतःस्रावी तंत्र में निर्मित संतुलन के कारण योग चिकित्सा सफल होती है जो शरीर के अन्य सभी प्रणालियों और अंगों को सीधे प्रभावित करती है।

    हालांकि, अधिकांश लोगों के लिए, योग तनावपूर्ण समाज में स्वास्थ्य को बनाए रखने का मुख्य साधन है। योग बुरी आदतों के प्रभावों को उलट देता है, जैसे कि सारा दिन कुर्सी पर बैठना, मोबाइल फोन का अत्यधिक उपयोग, व्यायाम करना, गलत भोजन करना आदि।

    इनके अलावा योग के कई आध्यात्मिक लाभ भी हैं। इनका वर्णन करना आसान नहीं है, क्योंकि आपको स्वयं योग का अभ्यास करके उन्हें प्राप्त करना होगा और फिर उन्हें महसूस करना होगा। योग प्रत्येक व्यक्ति को अलग तरह से लाभ पहुंचाता है। इसलिए योग को जरूर अपनाएं और अपने मानसिक, शारीरिक, आध्यात्मिक और आध्यात्मिक स्वास्थ्य में सुधार करें।

    योग के नियम - Rules of Yoga in Hindi

    यदि आप इन कुछ सरल नियमों का पालन करते हैं, तो आपको निश्चित रूप से योग अभ्यास का पूरा लाभ मिलेगा:

    • किसी गुरु के मार्गदर्शन में योगाभ्यास शुरू करें।
    • योग करने का सही समय सूर्योदय या सूर्यास्त है।
    • योग करने से पहले स्नान कर लें।
    • खाली पेट योग करें। योग करने से 2 घंटे पहले कुछ भी न खाएं।
    • आरामदायक सूती कपड़े पहनें।
    • तन की तरह मन भी स्वच्छ होना चाहिए - योग करने से पहले मन से सभी बुरे विचार निकाल दें।
    • शांत और साफ जगह पर योग का अभ्यास करें।
    • अपना सारा ध्यान अपने योग अभ्यास पर केंद्रित रखें।
    • योग का अभ्यास धैर्य और दृढ़ता के साथ करें।
    • अपने शरीर को बिल्कुल भी मजबूर न करें।
    • धैर्य रखें। योग के लाभों को महसूस करने में समय लगता है।
    • लगातार योगाभ्यास जारी रखें।
    • योग करने के बाद 30 मिनट तक कुछ भी न खाएं। 1 घंटे तक न नहाएं।
    • आसन का अभ्यास करने के बाद हमेशा प्राणायाम करें।
    • यदि आपको कोई चिकित्सीय समस्या है, तो कृपया पहले अपने चिकित्सक से परामर्श करें।
    • अगर दर्द बढ़ने लगे या कोई नई समस्या हो तो तुरंत योगाभ्यास बंद कर दें।
    • योगाभ्यास के अंत में हमेशा 'श्वासन' करें।

    योग के प्रकार - Types of Yoga in Hindi

    योग के 4 प्रमुख प्रकार या योग के चार मार्ग हैं:
    राज योग:
    राजा का अर्थ शाही होता है और योग की इस शाखा का सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा ध्यान है। इस योग के आठ अंग हैं, जिसके कारण पतंजलि ने इसका नाम अष्टांग योग रखा। इसका उल्लेख पतंजलि ने योग सूत्र में किया है। ये 8 अंग इस प्रकार हैं: यम (शपथ), नियम (आचरण या आत्म-अनुशासन का नियम), आसन, प्राणायाम (श्वास नियंत्रण), प्रत्याहार (इंद्रियों पर नियंत्रण), धारणा (एकाग्रता), ध्यान (ध्यान), और समाधि (परमानंद या परम मुक्ति)। राज योग उन व्यक्तियों को आकर्षित करता है जो आत्मनिरीक्षण करने वाले और ध्यान करने के लिए तैयार हैं। आसन राज योग का सबसे प्रसिद्ध हिस्सा हैं, यहां तक ​​कि ज्यादातर लोगों के लिए भी योग का मतलब आसन है। लेकिन आसन एक प्रकार के योग का केवल एक हिस्सा हैं। योग आसन अभ्यास से कहीं अधिक है।

    कर्म योग:
    अगली शाखा कर्म योग या सेवा का मार्ग है और हममें से कोई भी इस मार्ग से बच नहीं सकता है। कर्म योग का सिद्धांत यह है कि आज हम जो अनुभव करते हैं वह हमारे अतीत में किए गए कार्यों से निर्मित होता है। इसके प्रति जागरूक होकर हम वर्तमान को एक बेहतर भविष्य बनाने का मार्ग बना सकते हैं, जो हमें नकारात्मकता और स्वार्थ के बंधन से मुक्त करता है। कर्म आत्म-आरोही क्रिया का मार्ग है। जब भी हम अपना काम करते हैं और निस्वार्थ भाव से अपना जीवन जीते हैं और दूसरों की सेवा करते हैं तो हम कर्म योग करते हैं।

    भक्ति योग:
    भक्ति योग भक्ति मार्ग का वर्णन करता है। सभी के लिए: सृष्टि में परमात्मा को देखना, भक्ति योग भावनाओं को नियंत्रित करने का एक सकारात्मक तरीका है। भक्ति का मार्ग हमें सभी के लिए स्वीकार्यता और सहनशीलता विकसित करने का अवसर प्रदान करता है।

    ज्ञान योग:
    यदि हम भक्ति को मन का योग मानते हैं, तो ज्ञान योग बुद्धि का योग है, ऋषि या विद्वान का मार्ग है। इस पथ पर चलने के लिए योग ग्रंथों और ग्रंथों के अध्ययन के माध्यम से बुद्धि के विकास की आवश्यकता है। ज्ञान योग को सबसे कठिन के साथ-साथ सबसे प्रत्यक्ष भी माना जाता है। यह गंभीर अध्ययन करता है और बौद्धिक रूप से इच्छुक लोगों को आकर्षित करता है।

    योग कब करें या योग करने का सही समय क्या है? - What is the correct time to practice Yoga in Hindi?

    सुबह सूर्योदय से एक से दो घंटे पहले योग करने का सबसे अच्छा समय है। अगर सुबह आपके लिए यह संभव नहीं है तो आप इसे सूर्यास्त के समय भी कर सकते हैं। इसके अलावा इन बातों का भी ध्यान रखें:

    • यदि दिन का कोई समय योग के लिए निर्धारित किया जाए तो अच्छा रहेगा।
    • सभी आसनों को योगा मैट या कालीन बिछाकर करें।
    • आप किसी खुली जगह जैसे पार्क, या घर पर भी योग कर सकते हैं। बस इस बात का ध्यान रखें कि जगह ऐसी हो जहां कल आप खुलकर सांस ले सकें।

    योगाभ्यास शुरू करने से पहले सही मानसिक स्थिति क्या है? - What is the correct mental state before starting Yoga practice in Hindi?

    योग आसन हमेशा मन को शांत रखकर ही करना चाहिए। अपने मन को शांति और स्थिरता के विचारों से भरें और अपने विचारों को बाहरी दुनिया से दूर अपने आप पर केंद्रित करें। सुनिश्चित करें कि आप इतने थके हुए नहीं हैं कि आप आसन पर ध्यान केंद्रित करने में असमर्थ हैं, यदि थकान अधिक है तो केवल आराम करने वाले आसन करें।

    योगाभ्यास के दौरान सही मानसिक स्थिति क्या है? - What is the correct mental state during Yoga practice in Hindi?

    आप जो आसन कर रहे हैं उस पर गहरा ध्यान दें। अपनी एकाग्रता को शरीर के उस हिस्से पर केंद्रित करें जिस पर उस मुद्रा का सबसे अधिक प्रभाव पड़ता है। ऐसा करने से आपको आसान का ज्यादा से ज्यादा फायदा मिलेगा। आसन करते समय सांस लेना बहुत जरूरी है। आसन के लिए सांस लेने की सही विधि करें (कब श्वास लें और कब छोड़ें)।  अगर आपको इसकी जानकारी नहीं है तो सामान्य लयबद्ध श्वास लेते रहें।

    योग की शुरुआत करने के लिए टिप्स और सुझाव - Yoga Tips for Beginners in Hindi

    अगर आप जीवन में पहली बार योग शुरू कर रहे हैं या योग से बहुत परिचित नहीं हैं, तो इन बातों का ध्यान रखें:

    • अपने योग अभ्यास को धैर्य और दृढ़ता के साथ अपनाएं। अगर आपके शरीर में लचीलापन कम है तो आपको शुरुआत में ज्यादातर आसन करने में दिक्कत हो सकती है। अगर आप आसनों को पहले ठीक से नहीं कर पा रहे हैं तो चिंता न करें। आसान दोहराव के साथ सब आसान हो जाएगा। कम खिंचाव वाली सभी मांसपेशियां और जोड़ धीरे-धीरे लचीले हो जाएंगे।
    • अपने शरीर को बिल्कुल भी हड़बड़ी या जबरदस्ती न करें।
    • शुरुआत में आप सिर्फ वही आसन कर सकते हैं जिन्हें आप आसानी से कर सकते हैं। बस यह सुनिश्चित करें कि आपकी श्वास लयबद्ध हो।
    • शुरुआत में हमेशा दो आसनों के बीच कुछ सेकेंड के लिए आराम करें। अपनी शारीरिक जरूरत के अनुसार दो आसनों के बीच आराम की अवधि तय करें। समय के साथ, इस अवधि को कम करें।

    अच्छे योगाभ्यास के लिए क्या सावधानियों बरतनी चाहियें? - What precautions to take for a good Yoga practice in Hindi?

    • ज्यादातर कहा जाता है कि मासिक धर्म के दौरान महिलाओं को योग का अभ्यास नहीं करना चाहिए। लेकिन आप अपनी शारीरिक क्षमता के हिसाब से अंदाजा लगा सकते हैं कि मासिक धर्म के दौरान योगाभ्यास आपको सूट करता है या नहीं।
    • बेहतर होगा कि आप गर्भावस्था के दौरान किसी गुरु की देखरेख में योग करें।
    • 10 साल से कम उम्र के बच्चों को ज्यादा कठिन आसन नहीं देना चाहिए। योग गुरु के मार्गदर्शन में ही करें।
    • खान-पान में संयम बरतें। समय पर खाना-पीना।
    • धूम्रपान सख्त वर्जित होना चाहिए। अगर आपको तंबाकू या धूम्रपान की आदत है तो योग को अपनाएं और इस बुरी आदत को छोड़ने की कोशिश करें।
    • सुनिश्चित करें कि आप पर्याप्त नींद लें। व्यायाम और पौष्टिक आहार के साथ-साथ शरीर को आराम की भी जरूरत होती है। इसलिए समय पर सोएं।

    विश्वास का महत्व एक अच्छे योग अभ्यास के लिए - Importance of Faith for a good Yoga practice in Hindi

    खुद पर और योग में विश्वास रखें। सकारात्मक सोच एक आदर्श योग अभ्यास का सच्चा साथी है। आपकी मानसिक स्थिति और दृष्टिकोण ही आपको योग से मिलने वाले सभी लाभ प्रदान करता है।

    योगासन की सूची - List of Yoga Poses in Hindi

    यहाँ हमने सबसे ज्यादा किए जाने वाले योगासन की सूची दी है 

    • अधोमुखश्वानासन
    • अधोमुखवृक्षासन
    • आकर्ण धनुरासन
    • अनन्तासन
    • अञ्जनेयासन
    • अर्धचन्द्रासन
    • अष्टांग नमस्कार
    • अष्टावक्रासन
    • बद्धकोणासन
    • बकासन या ककासन
    • बालासन
    • भैरवासन
    • अण्कुशासन
    • भरद्वाजासन
    • भेकासन
    • भुजंगासन
    • भुजपीडासन
    • बिडालासन या मार्जरी आसन
    • चतुरङ्ग दण्डासन
    • दंडासन
    • धनुरासन
    • दुर्वासासन
    • गर्भासन
    • गरुड़ासन
    • गोमुखासन
    • गोरक्षासन
    • हलासन
    • हनुमानासन
    • जानुशीर्षासन
    • ञटर परिवर्तनासन
    • कपोतासन
    • कर्नापीड़ासन
    • कौण्डिन्यसन
    • क्रौञ्चासन
    • कुक्कुटासन
    • कूर्मासन
    • लोलासन
    • मकरासन
    • मालासन
    • मंडूकासन
    • मरीच्यासन
    • मत्स्यासन
    • मत्स्येन्द्रासन
    • मयूरासन
    • मुक्तासन
    • नटराजासन
    • नावासन या परिपूर्णनावासन या नौकासन
    • पद्मासन
    • परिघासन
    • पार्श्वकोणासन
    • पार्श्वोत्तनासन
    • पाशासन
    • पश्चिमोत्तानासन
    • पिन्च मयूरासन
    • प्रसारित पादोत्तानासन
    • राजकपोतासन
    • शलभासन
    • सालम्बसर्वाङ्गासन
    • समकोणासन
    • शवासन
    • सर्वांगासन
    • सेतुबंधासन
    • सिद्धासन
    • सिंहासन
    • शीर्षासन
    • सुखासन
    • सुप्त पादांगुष्ठासन
    • सुर्य नमस्कार
    • स्वस्तिकसन
    • ताड़ासन
    • टिट्टिभासन
    • त्रिकोणासन या उत्थित त्रिकोणासन
    • त्रिविक्रमासन
    • तुलासन
    • उपविष्टकोणासन
    • ऊर्ध्व धनुरासन या चक्रासन
    • ऊर्ध्व मुख श्वानासन
    • उष्ट्रासन
    • उत्कटासन
    • उत्तानास
    • उत्थित हस्त पादांगुष्ठासन
    • वज्रासन
    • वसिष्ठास
    • विपरीत दण्डासन
    • विपरीतकरणि
    • विपरीत वीरभद्रासन
    • वीरभद्रासन 1
    • वीरभद्रासन 2
    • वीरभद्रासन 3
    • वीरासन
    • वृक्षास
    • वृश्चिकासन
    • योगनिद्रासन

    Post a Comment

    0 Comments
    * Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.

    Top Post Ad




    Below Post Ad